Bitcoin Kya hai: जानिए पूरी जानकारी हिंदी में 2022

Bitcoin Kya hai: बिटकॉइन एक डिजिटल करेंसी है जो पूरी तरह से फ्री फॉर्म में काम करती है, यानी यह किसी भी बैंक या सरकार द्वारा नियंत्रित नहीं होती है। एक मुद्रा जो पूरी तरह से आभासी है। आप इसे नकदी के ऑनलाइन संस्करण के रूप में भी सोच सकते हैं।

चूंकि Bitcoin एक विकेन्द्रीकृत डिजिटल कैश है, इसके सभी लेनदेन एक पीयर-टू-पीयर कंप्यूटर नेटवर्क का उपयोग करके किए जाते हैं, अर्थात यहां सभी खरीद की पुष्टि उपयोगकर्ताओं द्वारा की जाती है। वहीं, यहां किसी बैंक या सरकार का दखल नहीं है।

आजकल Internet की मदद से पैसा कमाना संभव हो गया है। ऐसे कई तरीके हैं जिनसे हम घर बैठे Internet से पैसे कमा सकते हैं। उन तरीकों में से एक है बिटकॉइन, जिससे हम बहुत सारा पैसा कमा सकते हैं।

आप में से कुछ लोगों ने Bitcoin के बारे में तो सुना ही होगा और जिन्हें Bitcoin के बारे में कुछ भी नहीं पता वो आज इस Article के जरिए जानेंगे। जी हां, आज मैं आपको Bitcoin Kya hai? इसके बारे में बताने जा रहा हूं।

बिटकॉइन क्या है – What is Bitcoin in Hindi

बिटकॉइन एक विकेन्द्रीकृत मुद्रा है, जिसका अर्थ है कि यह किसी विशिष्ट देश या मुद्रा से बंधा नहीं है। यह ब्लॉकचेन तकनीक के शीर्ष पर बनी एक मुद्रा है, जिसका अर्थ है कि बिटकॉइन के साथ किए गए लेनदेन सार्वजनिक रूप से और कालानुक्रमिक रूप से ब्लॉकचेन पर संग्रहीत होते हैं। इसका मतलब है कि अब तक किए गए सभी लेनदेन को कोई भी देख सकता है।

बिटकॉइन को 2009 में सतोशी नाकामोटो नाम के एक व्यक्ति या समूह द्वारा पेश किया गया था। बिटकॉइन का मतलब नकदी का एक डिजिटल संस्करण बनाने का एक तरीका था, जहां एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को बिना किसी वित्तीय संस्थान या अन्य बिचौलिए के माध्यम से भुगतान किया जा सकता है जो इस तरह के भुगतान के लिए शुल्क ले सकते हैं और समय प्रक्रिया को धीमा कर सकता है।

बिटकॉइन का उपयोग कोई भी कर सकता है जैसे हम सभी इंटरनेट का उपयोग करते हैं और इसका कोई मालिक नहीं है, उसी तरह बिटकॉइन भी है।

बिटकॉइन की शुरुआत (Bitcoin Startup)

इसे पहली बार ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर के रूप में जनवरी 2009 में सतोशी नाकामोतो द्वारा जारी किया गया था। वह एक प्रोग्रामर है। इसके बारे में कोई नहीं जानता। अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग लोग खुद को सातोशी नाकामोटो होने का दावा करते रहे हैं, लेकिन आज तक इसका असली प्रोग्रामर नहीं मिला है।

आज के समय में कई ऐसे Programmers इसे और ज्यादा Secure और मजबूत बनाने में लगे हुए हैं. इसका मूल उद्देश्य किसी तीसरे पक्ष या किसी केंद्रीय प्राधिकरण की सहायता के बिना एक स्थान से दूसरे स्थान पर धन जारी करना था। पूरी दुनिया में इससे जुड़ा सॉफ्टवेयर तैयार किया गया है। 22 मई 2010 को पहली बार पिज्जा के लिए 10,000 बिटकॉइन की पेशकश की गई थी।

उस समय 1 बिटकॉइन की कीमत 10 सेकंड या उससे कम थी, लेकिन आज इसका मूल्य एक हजार गुना बढ़ गया है। अधिक से अधिक लोगों द्वारा खरीदे जाने के कारण इसकी कीमत लगातार बढ़ती जा रही है।

बिटकॉइन कैसे काम करता है (How Does Bitcoin Work)       

इसका आदान-प्रदान पीयर टू पीयर टेक्नोलॉजी द्वारा किया जाता है, यानी यह पैसा सीधे एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर तक पहुंचता है। इसे आम लोगों के बीच विभाजित एक ब्लॉक चेन के रूप में भेजा जाता है। जैसे कोई बैंक आपके पैसे पर नज़र रखता है, उसी तरह ये ब्लॉकचेन हर बिटकॉइन का ट्रैक रखते हैं।

यानी दुनिया में कहीं भी इसके लेन-देन का हिसाब इसी ब्लॉक चेन में होता है। चूंकि प्रत्येक लेन-देन सत्यापित होता है और नेटवर्क अपना रिकॉर्ड रखता है, इसलिए यह धोखाधड़ी नहीं हो सकती।

इस तकनीक को हजारों लोगों द्वारा सुरक्षित बनाया गया है जो शक्तिशाली कंप्यूटर की मदद से इस लेनदेन पर नजर रखते हैं। और इसे जांचें। इसके लिए जो भी इसे सफलतापूर्वक करता है उसे इनाम के तौर पर कुछ बिटकॉइन दिए जाते हैं। इसे बिटकॉइन माइनिंग कहते हैं।

वास्तव में, कोड भाषा में इस लेनदेन को सत्यापित करने वाले हजारों लोग बैंक के क्लर्क की तरह काम करते हैं, और उन्हें खनिक कहा जाता है। ये लोग लेन-देन पर नजर रखते हैं ताकि इसका गलत इस्तेमाल न हो।

लेकिन इस प्रक्रिया को पूरा करते समय इन नाबालिगों को गणित का एक प्रश्न हल करना होता है। जो माइनर इस समस्या को जल्द से जल्द हल करता है। बदले में उसे लगभग 12.5 बिटकॉइन मिलते हैं और इस तरह वह डिजिटल बाजार में प्रवेश करता है।

लेकिन इसकी अर्थव्यवस्था इस तरह से बनाई गई है कि थोड़ी देर बाद इसकी संख्या घटकर आधी रह जाती है। शुरुआत में 1 ब्लॉक से निकासी के लिए 50 बिटकॉइन का इस्तेमाल किया गया था। प्रति ब्लॉक बिटकॉइन की संख्या हर 4 साल में आधी हो जाती है।

यानी करीब 125 साल बाद नए बिटकॉइन का बनना बंद हो जाएगा। तब तक दुनिया में 20 मिलियन बिटकॉइन आ चुके होंगे। यह जल्द ही समाप्त हो जाएगा, इसलिए लोग इसे अधिक से अधिक खरीदने के लिए होड़ कर रहे हैं।

बिटकॉइन के फायेदे

अब चलिए जानते हैं की बिटकॉइन के फ़ायेदे क्या क्या हैं :-

  1. यहां आपका लेनदेन शुल्क क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड से भुगतान करने से बहुत कम है।
  2. आप दुनिया में कहीं भी और कभी भी बिना किसी परेशानी के बिटकॉइन भेज सकते हैं।
  3. यहां बिटकॉइन का अकाउंट ब्लॉक नहीं होता है, जैसे कभी-कभी किसी कारण से बैंक हमारे क्रेडिट या डेबिट कार्ड को ब्लॉक कर देता है, तो यहां वह समस्या नहीं होती है।
  4. अगर आप लंबी अवधि के लिए बिटकॉइन में निवेश करना चाहते हैं तो आपको इससे काफी फायदा मिल सकता है क्योंकि रिकॉर्ड में देखा गया है कि बिटकॉइन की कीमत बढ़ रही है तो आगे चलकर आपको इससे काफी फायदा मिल सकता है। .
  5. अगर बिटकॉइन के लेन-देन की प्रक्रिया में कोई सरकार या प्राधिकरण आप पर नजर नहीं रखता है, तो कई लोग ऐसे भी हैं जो इसका इस्तेमाल गलत काम करने के लिए भी करते हैं, तो यह उनके लिए फायदेमंद होता है।

बिटकॉइन से नुकसान (Bitcoin Loss)

  1. इसे नियंत्रित करने के लिए कोई प्राधिकरण या सरकार नहीं है, जिसके कारण बिटकॉइन की कीमत बढ़ती या गिरती रहती है, जिसके कारण इसमें निवेश करना थोड़ा जोखिम भरा हो सकता है।
  2. अगर इसका इस्तेमाल दो लोगों के बीच किया जाता है तो लोग इसका इस्तेमाल गलत कामों जैसे हथियार खरीदना, घसीटना आदि के लिए भी करते हैं। जो कि काफी खतरनाक साबित हो सकता है।
  3. अगर आपका अकाउंट हैकर द्वारा हैक किया गया है, तो आप अपने बिटकॉइन खो सकते हैं, सबसे बड़ा नुकसान यह है कि आप इसे वापस नहीं पा सकते हैं।

बिटकॉइन कैसे खरीदें?

आप बिटकॉइन को सोने की तरह ही खरीद सकते हैं, वो भी भारतीय करेंसी में। तो आइए जानते हैं कि भारत में ऐसी वेबसाइटें हैं जहां से हम बड़ी आसानी से बिटकॉइन खरीद सकते हैं, वो भी अपनी मुद्रा में।

यहाँ इन websites में आप बड़ी आसानी से इनकी मेह्जुदा कीमत देख सकते हैं वो भी Real time में. अगर आपको बिटकॉइन कैसे खरीदें की जानकारी बिस्तार में चाहिए तो यहाँ पढ़िए.

1. Wazirx

2. Unocoin

3. Zebpay

इन प्लेटफॉर्म्स पर रजिस्ट्रेशन करने के लिए हमें ये डाक्यूमेंट्स सबमिट करने पड़ते है –

  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • बैंक अकाउंट
  • ईमेल एड्रेस
  • फ़ोन नंबर

भारत में बिटकॉइन की खरीदारी या बिकवाली अवैधानिक नहीं है |

बिटकॉइन वॉलेट क्या है?

हम बिटकॉइन को केवल इलेक्ट्रॉनिक रूप से स्टोर कर सकते हैं और इसे रखने के लिए बिटकॉइन वॉलेट की आवश्यकता होती है। डेस्कटॉप वॉलेट, मोबाइल वॉलेट, ऑनलाइन/वेब-आधारित वॉलेट, हार्डवेयर वॉलेट जैसे कई प्रकार के होते हैं, इनमें से किसी एक वॉलेट का उपयोग करके हमें उसमें एक खाता बनाना होता है।

यह वॉलेट हमें एक एड्रेस के रूप में एक यूनिक आईडी देता है, जैसे कि आपने कहीं से बिटकॉइन कमाया है और आपको उसे अपने अकाउंट में स्टोर करना है तो आपको वहां उस एड्रेस की जरूरत पड़ेगी और उसकी मदद से आप बिटकॉइन को यहां ट्रांसफर कर सकते हैं। आपका खाता। पर्स में रख सकते हैं।

बिटकॉइन माइनर क्या होता है?

सभी देशों में करेंसी करेंसी नोट छापने की एक लिमिट होती है, उसी तरह बिटकॉइन बनाने की भी लिमिट होती है। सीमाएं हैं कि बिटकॉइन बाजार में 21 मिलियन (2.10 करोड़) से अधिक नहीं हो सकते हैं। फिलहाल बाजार में यह 13 लाख (1.30 करोड़) के करीब है। नए बिटकॉइन खनन के माध्यम से आते हैं।

मान लीजिए आप किसी को बिटकॉइन भेजना चाहते हैं, तो हम उसे भेजने की प्रक्रिया को सत्यापित करते हैं और जो सत्यापित करते हैं उन्हें माइनर कहा जाता है। जिनके पास हाई पावर कंप्यूटर है। ये कंप्यूटर बिटकॉइन लेनदेन को सत्यापित करते हैं।

बजट 2022 में क्रिप्टो टैक्स पर केंद्र सरकार का एलान

केंद्रीय बजट 2022 में, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक क्रिप्टो टैक्स की घोषणा की, जिसे अगले वित्तीय वर्ष में लागू किया जाएगा। क्रिप्टो टैक्स 30 प्रतिशत फ्लैट होगा और 1 अप्रैल से शुरू होने वाले वित्तीय वर्ष (2022-23) में लागू होगा।

Bitcoin kya hai – भारत में बिटकॉइन का भविष्य

Bitcoin kya hai यह जानने के बाद अब भारत में इसका भविष्य जानने की जरूरत है। भारत में बिटकॉइन का भविष्य क्या होगा, इसकी चर्चा अभी गर्म है, क्योंकि कई देशों ने बिटकॉइन पर प्रतिबंध लगा दिया है। भारत में भी इसे बैन करने की बात हुई थी, लेकिन इस पर चर्चा नहीं हो सकी. विशेषज्ञों के अनुसार, कुछ निजी क्रिप्टोकरेंसी हैं जिनकी गतिविधियां संदिग्ध रही हैं। ऐसे में इन क्रिप्टोकरेंसी को भारत में बैन करने की बात हो रही थी |

FAQ – Bitcoin Kya hai

Q.1 – बिटकॉइन किस देश की करेंसी है?

Answer – 9 जून को एक ऐतिहासिक कदम में, अल साल्वाडोर बिटकॉइन को कानूनी निविदा के रूप में अपनाने के लिए कानून पारित करने वाला दुनिया का पहला देश बन गया।

Q.2 –  भारत में क्रिप्टो करेंसी कैसे खरीदें?

Answer – भारत में क्रिप्टो करेंसी Wazirx Platform के ज़रिए ख़रीद सकते हैं।

Q.3 – Bitcoin में कैसे निवेश करें?

Answer – बिटकॉइन में निवेश क्रिप्टोक्यूरेंसी एक्सचेंज के माध्यम से किया जा सकता है। इसके लिए आपको अपना विवरण दर्ज करना होगा। ईमेल सत्यापन और खाता सुरक्षा सत्यापन के बाद, आपको देश का नाम सुनना होगा।

Q.4 –  बिटकॉइन इंडिया में लीगल है या नहीं?

Answer – जी है, बिटकॉइन इंडिया में लीगल है |

Q.5 –  बिटकॉइन कैसे बनता है?

Answer – बिटकॉइन की सबसे छोटी यूनिट सातोशी है और 1 बिटकॉइन = 10 करोड़ सातोशी होते हैं। जैसे भारतीय मुद्रा के 1 रूपए = 100 पैसे होतें हैं l वैसे ही 10 करोड़ सातोशी से मिलकर एक बिटकॉइन बनता है l

Conclusion – Bitcoin Kya hai

ये थी bitcoin से जुडी जानकारी, मुझे उम्मीद है की आपको समझ में आ गया होगा की Bitcoin kya hai (What is Bitcoin in Hindi), उसे कैसे पाया जा सकता है और उसके क्या फायेदे और नुक्सान है |

बिटकॉइन की वजह से पूरी दुनिया में करेंसी को लेकर एक अलग ही मसला खड़ा हो गया है। हर कोई बिटकॉइन में निवेश करके रातों-रात अमीर बनना चाहता है लेकिन हमें इसमें शामिल जोखिम के बारे में भी पता होना चाहिए। इनकी कीमत में उतार-चढ़ाव से आपको भारी नुकसान हो सकता है। इसलिए आपको अपनी क्षमता के अनुसार निवेश करना चाहिए।

हमें उम्मीद है कि इस Article को पढ़ने के बाद आपको बिटकॉइन के बारे में बहुत कुछ सीखने को मिलेगा और आप कुछ नया जरूर सीखेंगे।

1 thought on “Bitcoin Kya hai: जानिए पूरी जानकारी हिंदी में 2022”

Leave a Comment